सात मृतकों की शिनाख्त नहीं, कोई नहीं पहुंचेगा तो प्रशासन करवाएगा संस्कार

नेरवा. गुम्मा के नजदीक टौंस नदी में निजी बस के गिरने से मौत के मुंह में  गए 45 लोगों में से 12 शवों की ही शिनाख्त हो पाई, लेकिन सात मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है।  26 शवों की शिनाख्त बुधवार को ही कर ली गई थी।वीरवार को त्यूणी, विकासनगर समेत आसपास के इलाकों से लोग राेते बिखलते नेरवा अस्पताल पहुंचे। लेकिन शाम तक । आगे  इनकी हुई शिनाख्त...   इनमें किरण देवी बिजनौर उत्तर प्रदेश, रोशनी देवी पत्नी मान सिंह रोहड़ू, मान सिंह पुत्र राम लाल रोहड़ू, सुरेंद्र पुत्र अजीत सिंह पांवटा, गंगा राम पुत्र प्रेम बहादुर त्यूणी, मोहन लाल पुत्र राम प्रकाश फरीदाबाद, शेर सिंह बरेली, संजीव पुत्र अमन सिंह बिजनौर, हजयमन पुत्र भलावन बिहार के रूप में हुई है। बचे हुए सात शवों को दाह संस्कार के लिए अपनों के कंधों का इंतजार है।   हादसे में मारे गए 26 शवों की शिनाख्त बुधवार को ही कर ली गई थी। इनको मिलाकर हादसे में मारे गए 45 में से अब तक 38 लोगों की पहचान पूरी हो गई है। उधर, डीसी रोहन चंद ठाकुर ने कहा कि इन शवों की शिनाख्त करने के हरसंभव प्रयास किए गए, लेकिन रात अंधेरा होने तक शवों की पहचान नहीं...

पूरी खबर पढ़े >>
source: Dainik Bhaskar
Share on Google Plus

0 comments:

Post a Comment