पंजाब में ज्यादा छूट पर नाराज - Shimla Times

Tuesday, July 25, 2017

पंजाब में ज्यादा छूट पर नाराज

सुन्नी —  केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) पर दुकानदारों में संशय बरकरार है। सरकार द्वारा हिमाचल के दुकानदारों के लिए दस लाख से नीचे टर्न ओवर के लिए जीएसटी अनिवार्य न होने पर जहां संशय बना हुआ है, वहीं पंजाब के दुकानदारों को इससे ज्यादा की छूट पर व्यापारी वर्ग में नाराजगी भी है। सोमवार को शिमला ग्रामीण के सुन्नी में एक्साइज एंड टेक्सएशन विभाग एवं व्यापार मंडल सुन्नी के सौजन्य से आयोजित जीएसटी कार्यशाला में दुकानदारों ने जीएसटी के कारण आ रही परेशानियों को अधिकारियों के समक्ष रखा। इस दौरान अधिकारियों ने दुकानदारों की जिज्ञासा शांत करने की कोशिश भी की। हालांकि अधिकांश दुकानदार अपने सवालों के जवाब से संतुष्ट नहीं दिखे। इस अवसर पर अधिकारियों ने बताया कि देश में एक समान कर प्रणाली लागू की गई है, जिससे दुकानदारों को भी विभिन्न प्रकार के करों से छुटकारा मिलेगा। वहीं ग्राहकों पर भी ज्यादा बोझ नहीं पड़ेगा। जीएसटी को तीन पारूप में इंटिग्रेटिड वस्तु एवं सेवा कर, केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर तथा राज्य वस्तु एवं सेवा कर में लागू किया गया है, जिन दुकानदारों का टर्नओवर सालाना दस लाख से कम है, उन्हें जीएसटी के तहत पंजीकृत होने की आवश्यकता नहीं है। फिर भी विभिन्न पेचीदगियों से बचने के लिए पंजीकरण करवाना फायदेमंद रहेगा। इस अवसर पर सहायक आयुक्त सतीश शर्मा, ईटीओ किरण गुप्ता, वसुंधरा, व्यापार मंडल सुन्नी के प्रधान पवन गुप्ता, महासचिव अमित वर्मा, मुख्य सलाहकार राजेंद्र, पूर्व प्रधान प्रदीप शर्मा, कपिल गुप्ता तथा 150 के करीब दुकानदारों ने हिस्सा लिया। कार्यशाला में सुन्नी, बसंतपुर, पल्याड चाबा तथा जलोग के दुकानदार मौजूद रहे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !


^पूरी खबर पढ़े: source - DivyaHimachal

No comments:

Post a Comment