मनाली में हिमाचल सरकार ने किए 2219 करोड़ के निवेश के लिए MOU साईन

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी कहते हैं कि प्रदेश की जनता को स्वरोजगार व रोजगार दिलाने के लिए वह प्रतिबद्ध है और इसी दृष्टि से हरसंभव कार्य भी किए जा रहे हैं। इसकी एक बानगी आज जिला कुल्लू के मनाली में भी देखी गई। प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल मनाली में आयोजित मिनी काॅन्क्लेव के दौरान आज 2219 करोड़ रुपये के निवेश के लिए 93 समझौता ज्ञापन (एमओयू) हस्ताक्षरित किए गए, जिनमें से 1500 करोड़ रुपये के 63 एमओयू केवल पर्यटन क्षेत्र के लिए किए गए हैं। यह मिनी काॅन्क्लेव धर्मशाला में प्रस्तावित ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट को सफल बनाने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने इस मिनी काॅन्क्लेव की अध्यक्षता की, जिसमें हिमाचल प्रदेश और अन्य राज्यों के उद्यमियों ने भाग लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने जर्मनी, नीदरलैंड और यू.ए.ई. में तीन अंतरराष्ट्रीय रोड शो और दिल्ली, बैंगलुरू, हैदराबाद, मुम्बई, अहमदाबाद और चण्डीगढ़ में छः घरेलू रोड शो आयोजित किए हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी रोड शो के दौरान व्यापारिक समुदाय ने हिमाचल में निवेश करने में अपनी विशेष रुचि दिखाई है।

हिमाचल ‘‘फास्ट मूवर’’ श्रेणी वाले राज्यों में शामिल
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने निवेश आकर्षित करने के लिए समग्र दृष्टिकोण अपनाया है और यह प्रदेश प्रक्रियाओं में सुधार लाने में ‘फास्ट मूवर’ श्रेणी वाले राज्यों में सम्मिलित हो गया है। एकल खिड़की अनुश्रवण और स्वीकृति प्राधिकरण निवेशकों को दक्षपूर्ण, पारदर्शी, समयबद्ध सेवाएं और उत्तरदायी प्रशासन उपलब्ध करवाने में अपनी अह्म भूमिका निभा रहा है। राज्य का शांत और स्वच्छ वातावरण, सांस्कृतिक विविधता के साथ-साथ राज्य पर्यटकों को साहसिक गतिविधियां, वन्य जीवन, ईको पर्यटन, धरोहर, आध्यात्मिक, स्मारक, धार्मिक, स्कीईंग आदि विकल्प प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार दीर्घकालिक पर्यटन को प्रदेश की आर्थिकी का प्रमुख स्रोत बनाने और प्रदेश को वैश्विक दीर्घकालिक पर्यटन गतंव्य बनाने के लिए कृत संकल्प है।
अब तक 41000 करोड़ के 419 एमओयू हस्ताक्षरित
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल का आरंभ होने के साथ ही उन्होंने लोग कल्याण के लिए अनेक पग उठाने का निर्णय लिया, जिनमें से ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट का आयोजन भी एक है। प्रदूषणमुक्त वातावरण, निवेशक अनुकूल नीतियां और उत्तरदायी प्रशासन हिमाचल प्रदेश को निवेशकों का पसंदीदा गंतव्य बनाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तक प्रदेश सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों में 41000 करोड़ रुपये के 419 एमओयू हस्ताक्षरित किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मजबूत एवं गतिशील नेतृत्व में देश की तीव्र प्रगति सुनिश्चित हुई है।

मुख्यमंत्री ने किया हिमाचली उद्योगपतियों से अन्य राज्यों के उद्यमियों को सहयोग देने का आह्वान
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि मनाली में आयोजित मिनी काॅन्क्लेव का उद्देश्य राज्य के उद्यमियों और व्यापारियों की समस्याओं का अनुश्रवण और उनका निपटारा सुनिश्चित करना है ताकि वे ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट का अधिक से अधिक लाभ उठा सकें। उन्होंने कहा कि राज्य के उद्यमियों के सहयोग के बिना बाहरी राज्यों से आने वाले निवेशक राज्य में निवेश नहीं कर सकते। उन्होंने स्थानीय उद्यमियों सेे ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट में भाग लेने और राज्य की प्रगति में अपना योगदान देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सूक्ष्म, लघु और मध्यम क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करने के लिए प्रक्रियाओं को सरल बनाने पर विचार कर रही है।

ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट का राज्य में आयोजन करने में मुख्यमंत्री की व्यक्तिगत रूचि : स्वास्थ्य मंत्री
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री विपिन सिंह परमार ने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट का राज्य में आयोजन करने में मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी की व्यक्तिगत रूचि है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा विशेष औद्योगिक पैकेज दिए जाने के बाद राज्य में अभूतपूर्व औद्योगिक विकास हुआ, लेकिन पैकेज के पूरा होने के उपरान्त राज्य में निवेश आकर्षित करने के लिए विशेष बल प्रदान करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राज्य ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में सराहनीय प्रगति की है और इस क्षेत्र में निजी निवेश की व्यापक सम्भावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में सुपर स्पेशलिटी अस्पताल स्थापित करने की व्यापक सम्भावनाएं हैं।

राज्य सरकार निवेश को सुविधाजनक बनाने के लिए कृतसंकल्प : उद्योग मंत्री
उद्योग मंत्री श्री बक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार उद्यमियों को सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाने और निवेश को सुविधाजनक बनाने के लिए कृतसंकल्प है। उन्होंने कहा कि सरकार व्यापार में सुगमता के लिए विशेष प्रयास कर रही है और राज्य में शान्त वातावरण और अनुकूल व्यापारिक परिस्थितियां हैं। उद्योग विभाग ने राज्य में औद्योगिक इकाइयांे को स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान करने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाया है। उन्होंने ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट में आने के लिए उद्यमियों को आमंत्रित किया।

मुख्यमंत्री के गतिशील नेतृत्व में प्रदेश प्रगति के पथ पर अग्रसर : वन मंत्री
वन मंत्री श्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के गतिशील नेतृत्व में प्रदेश प्रगति और उन्नति के पथ पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि जय राम ठाकुर के दूरदर्शी नेतृत्व में 85000 करोड़ रुपये के निवेश को आकर्षित करने के लिए ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट की अवधारणा पर विचार किया गया।




courtesy: CMO Himachal http://www.cmohimachal.com/2019/09/2219-mou.html

Post a Comment

0 Comments