बात फिर उठी है, आगे भी उठाई जाएगी

शिमला  – भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा मंगलवार को शिमला में हिंदी पखवाड़ा मनाया गया। इस पखवाड़े के रूप में राज्य स्तरीय युवा कवि सम्मेलन का शुभारंभ मुख्य अतिथि केआर भारती, पूर्व प्रशासनिक अधिकारी ने किया। कवि सम्मेलन में उपस्थित कार्यक्रम की अध्यक्षता डा. ओपी सारस्वत, पूर्व निदेशक अंतरराष्ट्रीय दूरवर्ती शिक्षण व मुक्त शिक्षा केंद्र, हिमाचल प्रदेश ने की । इस आयोजन में प्रदेश भर से लगभग 35 कवियों ने भाग लिया। इसमें युवा कवि हेमंत भार्गव ने अपनी कविता ‘बात फिर उठी है, आगे भी उठाई जाएगी’ पढ़ी। अनुराधा ने अपनी कविता हिंदी भाषा पर आधारित ‘हर भाषा को अपना रही, नित-नूतन सृजन सजा रही’ प्रस्तुत की। सिरमौर से आए  भरत धीमान ने ‘हिंद ह्नदय है इस पावन धरा का, इसकी सांसें हैं जान है हिंदी’ पर कविता प्रस्तुत की।  शीतल मंडी ने अपनी कविता ‘मकसद मिला जीने का, ख्वाब मिल गया, उस भारत मां के चरणों में लघु बलिदान करने का अरमान मिल गया’, हमीरपुर की दीनाक्षी शर्मा, ऊना के राजपाल कुटलैहडि़या, कुल्लू के शेर सिंह मेरूपा, शिमला के प्रवीण मुगटा, ऊना की अल्का चावला के अलावा कांगड़ा के डा. अतिथि गुलेरी ने भी अपनी कविता ‘तुम व्यस्त, हम अभ्यस्त, तुम मसरूफियत के, हम इंतजार के’ प्रस्तुत की । कार्यक्रम के मुख्यातिथि केआर भारती ने ‘बचपन ने जब हम भागते थे तितलियों के पीछे, तितलियां कहीं दूर भाग जाती थीं हमसे’ कविता प्रस्तुत की। डा. ओपी सारस्वत ने विभाग द्वारा आयोजित करवाए जाने वाले युवा कवि सम्मेलन के आयोजन के लिए विभाग के निदेशक के प्रयासों की सराहना की तथा अपने विचार व्यक्त किए व ‘दिन लिख रहे हैं धुंध कुंद हो रहा उजास, आस क्या करें’ कविता प्रस्तुत की। कार्यक्रम के अंत में विभाग के सहायक निदेशक  त्रिलोक सूर्यवंशी ने आयोजन में पधारे सभी लेखकों व कवियों का कार्यक्रम को सफ ल बनाने के लिए आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में बताया गया कि हिंदी पखवाड़े के अंतर्गत प्रदेश भर से आए अंतरविद्यालय की हिंदी प्रश्नोत्तरी, निबंध, सुलेख व भाषण प्रतियोगिता का आयोजन गेयटी थियेटर में करवाया जाएगा।

The post बात फिर उठी है, आगे भी उठाई जाएगी appeared first on Divya Himachal: No. 1 in Himachal news - News - Hindi news - Himachal news - latest Himachal news.


Courtsey: Divya Himachal
Read full story: https://www.divyahimachal.com/2019/09/%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%a4-%e0%a4%ab%e0%a4%bf%e0%a4%b0-%e0%a4%89%e0%a4%a0%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a5%88-%e0%a4%86%e0%a4%97%e0%a5%87-%e0%a4%ad%e0%a5%80-%e0%a4%89%e0%a4%a0%e0%a4%be%e0%a4%88-%e0%a4%9c/

Post a Comment

0 Comments